PHP In Hindi:-

PHP का पूरा नाम है पर्सनल होम पेज(Personal Home Page) जिसे बाद में बदल कर PHP: हाइपरटेक्स्ट प्री-प्रोसेसर (PHP: Hypertext Preprocessor) कहा गया | PHP को 1994 में Rasmus Lerdorf द्वारा बनाया गया था |

php एक सर्वर साइड स्क्रिप्टिंग लैंग्वेज (Server Side Scripting Language) है , मतलब की ऐसा स्क्रिप्टिंग लैंग्वेज (Scripting Language) जो की सर्वर (Server) पर एक्सेक्युट(Execute) होता है|

PHP के द्वारा डायनामिक वेबसाइट (Dynamic Website) या वेब एप्लीकेशन (Web Application) बनाया जाता है | किसी भी प्रकार के वेब एप्लीकेशन (Web Application) बनाने के लिए PHP सबसे प्रचलित स्क्रिप्टिंग लैंग्वेज (Scripting Language) है |

 

PHP सीखना कितना जरूरी है ?

 

  1. इंटरनेट के सबसे पॉपुलर वेबसाइट कैसे की Facebook , Wikipedia , Yahoo को बनाने के लिए PHP का उपयोग हुआ है |

 

  1. इसके अलावा सारे पॉपुलर कंटेंट मैनेजमेंट सिस्टम (Content Management System) जैसे की WordPress, Magento, Opencart को बनाने में भी PHP का ही उपयोग हुआ है | open-source-customization

मतलब साफ है कि अगर आप एक वेब डेवलपर (Web Developer) बनना चाहते है तो आप को PHP जरूर सीखना चाहिए PHP का बहुत अच्छा करियर है|

 

PHP कैसे काम करता है ?

जब भी कोई User जब भी कोई यूजर किसी वेबसाइट के किसी भी पेज को खोलने के लिए उस वेबसाइट का URL जैसे की Facebook.com टाइप करता है या किसी लिंक पर क्लिक करता है तो उस वेबसाइट के Server को एक Request जाता है और उस Request के हिसाब से उस वेबसाइट का Server PHP कोड को Process करता है और इसी के आउटपुट के रूप में वह Web-Page हमारे ब्राउज़र में खुल जाता है यानि की अगर हम Facebook.com खोलना चाहते है तो Facebook.com का पेज खुल जाता है ।

PHP सीखने से पहले आप को निम्नलिखित चीजों का ज्ञान होना चाहिए :-

  1. ब्राउज़र और टेक्स्ट एडिटर क्या है?
  2. इससे पहले कि आप PHP सीखना शुरु करें आपको HTML , CSS और JavaScript का ज्ञान होना चाहिए |

कितना मुश्किल है php को सीखना ?

अगर आप C Programming Language या C++ Programming Language सीख चुके हैं तो बहुत ही आसानी से PHP सीख सकते हैं | PHP सीखना आपके लिए ज्यादा मुश्किल नहीं होगा |

PHP सीखने के लिए हमें क्या चाहिए ?

PHP सीखने के लिए हमे तीन चीजों की जरुरत होती है |

  1. Text-Editor (टेक्स्ट एडिटर)
  2. Web Browser (वेब ब्राउज़र)
  3. Local Server (लोकल सर्वर)

Web Browser (वेब ब्राउज़र) जैसे की Google Chrome (गूगल क्रोम) , Internet Explorer (इन्टरनेट एक्स्प्लोरर) , या Mozila Firefox और टेक्स्ट-एडिटर जैसे की नोटपैड और नोटपैड ++ से तो आप परिचित है । Local Server क्या होता है ? ये कैसे काम करता है ? और इसे कैसे इनस्टॉल करना है ? इसके बारे में आप को अगले पाठ में बताऊंगा ।

All About Local Server In Hindi :-