What is programming language in hindi ?

C program सिखाने से पाहिले में आपको programming(प्रोग्रामिंग) से संबंधित कुछ बहुत जरुरी प्रश्न का उत्तर देना चाहता हु अगर आप एक छात्र, एक आईटी पेशेवर है और कोइ भी प्रोग्रामिंग भाषा जैसे C,C++,JAVA ,Visual Basic आदि सिखना चाहते है तो ये मौलिक(basic) ज्ञान कंप्यूटर प्रोग्राम सीखने के लिए अत्यधिक लाभकारी होगा | इन मौलिक(basic) ज्ञान के बिना आप कभी भी अच्छे तरीके से किसी programming भाषा को नहीं जान पाएंगे |
तो चलिए दोस्तों शुरू करते है :-


प्रश्न 1) programming language(प्रोग्रामिंग भाषा) क्या है ?
उत्तर –  कंप्यूटर ( computer ) हमारी language नहीं समझता ऐसे में programming language (प्रोग्रामिंग भाषा) वो माध्यम है जिसका उपयोग             हम कंप्यूटर को कुछ समझाने के लिए करते है या साधारण भाषा में हम कह सकते है की programming language(प्रोग्रामिंग भाषा) का उपयोग हम कंप्यूटर से बात करने के लिए करते है |
            प्रोग्रामिंग लैंग्वेज(language) निर्देशों(instructions) की एक विशेष सेट(set) है जो कंप्यूटर पर कुछ कार्य करने या किसी प्रोब्लम(problem) के समाधान के लिए उपयोग होता है | कंप्यूटर किसी प्रोग्रामिंग लैंग्वेज(language) के निर्देशों को एक्सीक्यूट (executes) करता है ताकि वो एक सही उत्तर या output दे सके |
            एक प्रोग्रामिंग लैंग्वेज(language) में कई तरह के शब्दों का सेट(set) होता है तथा कुछ चिन्हों जैसे की @ , % या $ का उपयोग भी किआ जाता है| इन शब्दों तथा चिन्हों का उपयोग करके हम एक समस्या के समाधान हेतु सही program लिख सकते है जिसको एक्सीक्यूट(executes) करके क्प्म्पुटर हमे सही उत्तर या output दे सके |


प्रश्न 2) programming language(प्रोग्रामिंग भाषा) कितने प्रकार के होते है ?
उत्तर–  programming language के कुछ प्रकार :-

                          1.  Machine language(मशीनि भाषा)
                          2.  Assembly language
                          3.  High level language
                          4.  4GL language


Machine language(मशीनि भाषा) :- कंप्यूटर (computer) सिर्फ बाइनरी भाषा (binary language) ही समझता  है जो की 0 और 1 में                                                             लिखे होते है इसे ही Machine language(मशीनि भाषा) भी कहते है |
Machine language(मशीनि भाषा) काफी तेजी(fast) से एक्सीक्यूट(execute) होता है इसका कारन यह है की दुसरे programming language(प्रोग्रामिंग भाषा) पहिले मशीनि भाषा में बदलते है तब एक्सीक्यूट(execute) होकर output देते है लकिन इसे कोई बदलाब की जरुरत नहीं इसलिए ये बहुत तेज(fast) है |लकिन मशीनि भाषा में program को लिखना और समझाना काफी मुश्किल है और इसके दूसरा समस्या ये है की एक कंप्यूटर पर लिखा program दुसरे कंप्यूटर पर नहीं भी चल सकता है |


Assembly language(असेंबली भाषा) :- असेंबली भाषा में program को  mnemonics (म्नेमोनिक्स) के रूप में लिखा जाता है | ये                                                                           mnemonics उस कंप्यूटर के CPU या processor पर निर्भर होता है |हर processor के लिए अलग mnemonics सेट(set) processor के निर्माता द्वारा बनाया जाता है |हमे इन्ही mnemonics का उपयोग करके program लिखना होता है |ये program भी काफी तेजी से एक्सीक्यूट (execute) होता है और कंप्यूटर में काफी कम जगह लेते है|
लेकिन इनकी समस्या ये है की ये पूरी तरह से मशीन पर निर्भर होते है और इन्हे लिखना और समझाना काफी मुश्किल है|

• High-level language(हाई-लेवल भाषा):-  C,C++,JAVA, COBOL, FORTRAN, PASCAL अदि हाई - लेवल भाषा के उदाहरण है |                                                                             हाई-लेवल भाषा लगभग इंग्लिश भाषा की तरह होता है और इनमें से कुछ भाषा में लिखे program को हम दुसरे कंप्यूटर पर भी चला सकते है | इनमे program को लिखना काफी आसन है और program लीखने में होने बाले गलती को ठीक करना भी आसन है |
इसके अच्छे बात ये है की इसके program के code को बार-बार उपयोग किया जा सकता है |
इनके program को बनाना और संभालना दोनो आसन है | लेकिन कंप्यूटर (computer) सिर्फ बाइनरी भाषा (binary language) ही समझता है इसलिय हाई-लेवल भाषा को पहिले ) पहले मशीनि भाषा में बदलता है तब एक्सीक्यूट(execute) होकर output देता है इसलिय इन्हे एक्सीक्यूट(execute) होने में अधिक समय लगता है और ये कंप्यूटर मेमोरी में जगह भी ज्यादा लेता है |

(note :-कुछ लोग C को middle level language भी कहते है उनका तर्क है की c एक हाई-लेवल भाषा की तरह तो है पर ये अच्छी assembly language की तरह भी काम करता ही तो ये middle level language है | )

Fourth generation language(फोर्थ जनरेशन लैंग्वेज):- ये लगभग इंग्लिश भाषा की तरह ही होते है जिन्हें हम आसानी से पढ और समझ                                                                                           सकते है |इन्हे कुछ लिमिटेड काम करने के लिए बना जाता है इसके उदाहरन है SQL जिन्हें डाटाबेस(DataBase) से रिलेटेड काम करने के लिए बनाया गया है |इसके अन्य उदहारण है VB, VC++ आदि |



Next :- Algorithm In Hindi