What Is DBMS in Hindi? ( DBMS क्या है ? )

DBMS का पूरा नाम है डेटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम(Database Management System ) |

डेटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम(Database Management System ) एक सॉफ्टवेर (Software) है जिसका उपयोग डेटाबेस को बनाने(creating) और डेटाबेस को संभालने(managing) के लिए किया जाता है |मतलब की DBMS वह सॉफ्टवेर है जिससे हम एक नया Database को बना सकते है |

DBMS अपने उपयोगकर्ताओं(users) और प्रोग्रामर(programmers ) को एक व्यवस्थित तरीके के साथ डाटा को बनाने(create) , संभालने (manage) और update करने की सुविधा प्रदान करता है ।

जैसे कि MySql एक DBMS सॉफ्टवेयर है जिसमें कि हम कोई डेटाबेस बना सकते हैं माना कि हमने MySqL DBMS सॉफ्टवेयर में Student नाम का एक Database बनाया जिसके अंदर हमने Student का नाम, Student का रोल नंबर, Student का पता(Address) आदि जमा कर सकते हैं |

DBMS के कुछ उदाहरण :- MySQL, PostgreSQL, Microsoft Access(माइक्रोसॉफ्ट एक्सेस), Oracle(ओरेकल) इत्यादि।

दोस्तों Database Management System के कई सारे फायदे हैं Database Management System , File Based System में पैदा होने वाले सभी समस्याओं का समाधान भी है इसीलिए तो File Based System को हटाकर वर्तमान समय में हर जगह डाटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम का उपयोग किया जा रहा है |

डेटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम(Database Management System ) के कुछ फायदे नीचे दिए गए हैं : –

Controlling Data Redundancy (डेटा रिडंडंसी को नियंत्रित करना) :- File Based System में प्रत्येक एप्लिकेशन प्रोग्राम की अपनी निजी फाइल होती है इस स्थिति में, कई स्थानों पर एक ही डेटा की डुप्लिकेट files बनाई जाती हैं। डीबीएमएस में, एक संगठन(organization) के सभी डेटा को एक डेटाबेस फ़ाइल में एकीकृत किया जाता है मतलब की डेटा डाटाबेस में केवल एक स्थान पर दर्ज किया जाता है और इसे दोहराया नहीं जाता है।

Sharing of Data (डेटा साझा करना) :- DBMS में, organization के authorized users (अधिकृत उपयोगकर्ताओं ) द्वारा डेटा साझा किया जा सकता है। डाटाबेस एडमिनिस्ट्रेटर डेटा को नियंत्रित करता है और डेटा को access करने के लिए उपयोगकर्ताओं को अधिकार देता है । कई उपयोगकर्ताओं को एक साथ जानकारी के समान टुकड़े तक पहुंचने का अधिकार दिया जा सकता है जा सकता है remote users भी समान डेटा साझा कर सकते हैं। इसी तरह, एक ही डाटाबेस के डेटा को अलग-अलग एप्लीकेशन प्रोग्राम के बीच साझा किया जा सकता है।

 

Data Consistency (डाटा स्थिरता) :- डेटा रिडंडंसी (Data Redundancy) को नियंत्रित करके, डाटा स्थिरता प्राप्त की जाती है। मतलब की डाटाबेस में एक ही प्रकार के डेटा को बार-बार इन जमा होने से रोका जाता है

 

Integration of Data (डेटा का एकीकरण):- DBMS में, डेटाबेस में डेटा tables (तालिका) में संग्रहित होता है। एक डेटाबेस में एक से अधिक tables होते हैं और तालिकाओं (या संबंधित डेटा संस्थाओं) के बीच रिश्तों को बनाया जा सकता है। इससे डेटा को पुनः प्राप्त करना और अपडेट करना आसान हो जाता है

 



Data Security :- DBMS मैं डाटा को पूरी तरह से Database Administrator (एडमिनिस्ट्रेटर) द्वारा नियंत्रित किया जाता है और डाटा बेस एडमिनिस्ट्रेटर ही यह सुनिश्चित करता है कि किस User को कितना Database के कितने हिस्से पर Access देना है या नहीं देना है इससे डेटाबेस कि सिक्योरिटी बहुत अधिक बढ़ जाती है |

 

Recovery Procedures :- दोस्तों कंप्यूटर एक मशीन है इसलिए यह संभव है कि कभी भी कंप्यूटर में कोई Hardware (हार्डवेयर) या Software(सॉफ्टवेयर) संबंधित समस्या उत्पन्न हो जाए ऐसे में यह बहुत जरूरी है की किसी समस्या कंप्यूटर में किसी प्रकार की समस्या उत्पन्न होने पर उसमें रखें डेटाबेस को हम Recovery कर पाएं डीबीएमएस में यह काम बड़ी आसानी से किया जा सकता है |

डाटाबेस सिस्टम के कुछ संभावित नुकसान (disadvantages) भी है |

cost of implementing :- मतलब की डाटाबेस सिस्टम को implement( कार्यान्वयन ) करने में जो लागत आती है वह काफी ज्यादा हो सकता है जिसमें काफी रुपए खर्च हो सकते हैं |

effort to transfer data :– मौजूदा सिस्टम से डाटाबेस में डेटा को transfer करने के लिए काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ सकता है और इसमें बहुत अधिक समय भी लग सकता है |

Risk Of database fails :- अगर डेटाबेस विफल हो जाता है भले ही अपेक्षाकृत कम अवधि के लिए तो संपूर्ण कंपनी पर भी असर पड़ेगा और कंपनी को कई प्रकार के नुकसान उठाने पड़ेंगे |